close

Khel Patrakarita

Khel Patrakarita

Availability: In stock

ISBN: 9788173156847

INR 250/-

स्वतंत्रता के पहले से हिंदी पत्र-पत्रिकाओं में खेल गतिविधियों को स्थान मिलने लगा था, किंतु इस विषय को महत्त्व मिला आजादी के बाद के दशकों में, जब समाचार-पत्रों में खेलों का पन्ना अनिवार्य हो गया। एक तरफ खेलकूद कैरियर के रूप में अपनाए जाने लगे, वहीं खेल पत्रकारिता एक विशेष विधा के रूप में स्थापित हो गई। 

close